Article of the Month - Astroindusoot

Astro Articles

26 मई को होने वाला चंद्रग्रहण पूर्णतः नहीं होगा मान्य भारत में ग्रहण का नहीं लगेगा सूतक पर लोगों में बढ़ सकती हैं ये मानिसक समस्याएं

26 मई को होगा 3 घंटे का चंद्रग्रहण बढ़ सकती हैं ये समस्याएं इन बातों का रखें विशेष ध्यान और कर लें ये उपाय अभी से -

चंद्र-ग्रहण को वैज्ञानिक दृष्टि से जहाँ एक विशेष खगोलीय घटना माना जाता है वहीँ धर्म और ज्योतिषीय गणनाओं की दृष्टि में चंद्रग्रहण एक बहुत महत्वपूर्ण घटना होती है जो पूरी प्रकृति के साथ साथ व्यक्तिगत रूप से भी हमें प्रभावित करती है, ज्योतोषित गणनाओं के अनुसार चंद्रग्रहण हमेशा केवल पूर्णिमा के दिन ही होता है है, चन्द्रमाँ को जगत का मन कहा गया है और ज्योतिष में चन्द्रमाँ को मन का कारक ग्रह माना गया है इसलिए चंद्रग्रहण का समय निश्चित रूप से वातावरण में मानसिक उद्वेग का तो होता ही है पर भौगोलिक सामाजिक और व्यक्तिगत रूप से भी ग्रहण काल को एक संघर्ष उत्पन्न करने वाला समय ही माना गया है

आने वाले 26 मई बुधवार के दिन खग्रास चंद्रग्रहण होगा, ग्रहण का आरम्भ दोपहर 3 बजकर 15 मिन्ट पर होगा और मोक्ष शाम 6 बजकर 23 मिन्ट पर होगा यानी के दोपहर सवा तीन बजे से शाम को 6:23 तक लगभग तीन घंटे का ये चंद्रग्रहण होगा, लेकिन विशेष बात ये है के इस पूरे समयकाल में भारत में चंद्रोदय ही नहीं होगा जिस कारण भारत में लगभग सम्पूर्ण भाग में ये ग्रहण दृश्य ही नहीं होगा, और शास्त्रों के अनुसार जिस स्थान पर ग्रहण दिखाई नहीं देता वहां रहां मान्य नहीं होता और ग्रहण का सूतक भी नहीं लगता, हालाँकि भारत के पूर्वी भाग में 18 मिंट के लिए ये ग्रहण दिखेगा बाकि पूरे भारत में कहीं भी ये ग्रहण इतने समय के लिए भी नहीं दिखेगा, इसलिए 26 मई का ये चंद्रग्रहण भारत में मान्य नहीं होगा और ग्रहण का सूतक भी नहीं लगेगा, लेकिन हाँ ग्रहण भारत में दृश्य और मान्य ना होने पर भी मानिसक रूप से और सामाजिक वा भैगोलिक इसका प्रभाव अवश्य पड़ेगा

26 मई को होने वाले चंद्रग्रहण का प्रभाव - अधिकांश लोगों में घबराहट, ओवर थिंकिंग, नकरात्मक विचार, डिप्रैशन, चिड़चिड़ापन की स्थति बनेगी और २६ तारिख के आस पास के दिनों में ये चीजें ज्यादा हावी होंगी, इसलिए अगले लगभग 15 दिनों के समय में आपको अपनी मानसिक स्थिति और बिहेवियर पर बहुत ज्यादा नियंत्रण रखना होगा नकारात्मक विचारों से बचना होगा, इस समय में अपने घर परिवार में किसी के साथ बहस या आर्ग्युमेंट्स करना आपके जीवन में बड़ी समस्यायों को बढ़ा सकता है इसलिए अपने आप को शांत रखें, वर्तमान कोरोना की सिचुएशन के कारण जो लोग पहले से ही एंग्जायटी और डिप्रैशन का सामना कर रहे हैं वे सभी लोग अगले 15 दिन ओवर थिंकिंग और नकारात्मक विचारों से विशेष रूप से बचें और आगे बताये गए उपाय अभी से शुरू कर दें। इसके अलावा ये ग्रहण जल तत्व राशि में बन रहा है इसलिए अतिवर्षा, आंधी तूफ़ान, और भूकंप जैसी स्थितियां आगे अगले एक माह के अंदर कई बार बनेंगी और सामाजिक और राजनैतिक दृष्टि से भी बड़ी उठा पटक की स्थिति अगले कुछ महीनो में बन सकती है।

अगर बारह राशियों की दृष्टि से देखें तो ये चंद्रग्रहण "वृश्चिक राशि" और अनुराधा नक्षत्र में बनेगा इसलिए मुख्य रूप से वृश्चिक राशि के लोगों पर इस ग्रहण का सबसे ज्यादा रभाव होगा पर इसके अलावा मेष सिंह और धनु राशि के लोगों के लिए भी ये ग्रहण विशेष रूप से प्रभावित करेगा

बारह राशियों पर इस चंद्रग्रहण का प्रभाव -

मेष राशि - संघर्ष उत्पन्न होगा, स्वास्थ समस्याएं बढ़ेंगी

वृष राशि - वैवाहिक जीवन में तनाव बढ़ेगा विवादों से बचें।

मिथुन राशि - स्वास्थ में उतार चढ़ाव आयेगा, आर्ग्युमेंट्स हो सकते हैं।

कर्क राशि - पेट की समस्याएं होंगी, संतान पक्ष के साथ डिस्प्यूट्स से बचें।

सिंह राशि - पारिवारिक विवाद बढ़ेंगे अतः अपने व्यव्हार पर नित्यंतरण रखें।

कन्या राशि - छोटे भाई बहनो से आर्ग्युमेंट्स हो सकते हैं इसे अवॉयड करें ।

तुला राशि - आर्थिक समस्या बढ़ेगी, सम्बन्धियों से विवाद बढ़ सकते हैं।

वृश्चिक राशि - मानिसक और शारीरिक दोनों समस्याएं बढ़ेंगी, नकारात्मक विचारों से बचें।

धनु राशि - धन हानि हो सकती है आर्थिक लेन देन में सावधानी रखें।

मकर राशि - बड़े भाई बहनो से आर्ग्युमियंट्स हो सकते हैं इसे अवॉयड करें।

कुम्भ राशि - ऑफिशियल प्रॉब्लम्स बढ़ सकती हैं अपने सीनियर्स से आर्ग्युमेंट्स ना करें।

मीन राशि - आपके कार्यों में अड़चने बढ़ेंगी मानसिक तनाव के साथ काम पूरे होंगे।
इस चंद्रग्रहण के नकारात्मक प्रभाव से बचने के लिए अभी से ये उपाय शुरू करें -


1. ॐ सोम सोमय नमः का एक माला (बार) रोज जाप करें।

2. दूध, चावल, बूरा और अन्य सफ़ेद खाद्य पदार्थों का दान करें।

3. महामृत्युंजय मंत्र का भी सामर्थ्यानुसार रोज जाप करें।

4. अपने इष्ट मंत्र का जाप करें।

5. हनुमान चालीसा और संकट मोचन का प्रतिदिन पाठ करें।

ASTRO ARTICLES